Home Big grid विराट ब्राह्मण महासंघ गया के बैनर तले भव्य आयोजन में ब्राह्मणों की...

विराट ब्राह्मण महासंघ गया के बैनर तले भव्य आयोजन में ब्राह्मणों की हो रही उपेक्षा पर चर्चा की गई

253
0
SHARE

धर्म सभा भवन में विराट ब्राह्मण महासंगम का आयोजन

राकेश कुमार मिश्रा
गया:मगध की धरती गया में ब्राह्मण महासंघ गया धाम समिति के बैनर तले धर्म सभा भवन में विराट ब्राह्मण महासंगम का आयोजन किया गया।आयोजन का शुभारंभ भगवान परशुराम के तैल चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर दीप प्रज्वलित करते हुए की गई। उपस्थित मुख्य अतिथि,विशिष्ट अतिथि एवं उप सभापति,मंत्री एवं अध्यक्ष सहित आगंतुकों नेे पुष्प माला पहनाकर एक दूसरे का स्वागत किया। इस अवसर पर दूर-दराज से मगध के अन्य क्षेत्रों से ब्राह्मणों ने अपनी एकता का परिचय दिया।

ब्राह्मण महासंघ के पुण्य बेला में उपस्थित शालिग्राम दुबे, डॉक्टर देवेंद्र पाठक,अर्चना राय भट्ट,अध्यक्ष राज किशोर पांडेय, देवेंद्र पाठक,अजय मिश्रा,मंत्री राकेश  मिश्रा,बृज नंदन पाठक,विवेक मिश्रा,माखन दुबे,अमरनाथ, दिलीप कुमार मिश्र, शिवकुमार ने कहा कि ब्राह्मण महाकुंभ सम्मेलन का आयोजन किया गया है। जिसमें ब्राह्मणों की उपस्थिति अनिवार्य है। जिस प्रकार से ब्राह्मणों का राजनीतिक स्तर पर नेताओं द्वारा ब्राह्मणों की उपेक्षा की गई है और की जा रही है। जो दुर्भाग्यपूर्ण है जबकि ब्राह्मणों ने राष्ट्र निर्माण से लेकर समाज को स्पष्ट करने के अहम भूमिका निभाई है इसके बावजूद भी राजनीतिक स्तर से लेकर सामाजिक स्तर पर ब्राह्मणों की अपेक्षा की जा रही है। वैसे व्यक्तियों राजनीतिक के विरुद्ध एकजुट होकर चट्टानी एकता का प्रतीक बनकर ही जवाब दी जा सकती है। आज ब्राह्मणों को जिस प्रकार से उपेक्षा की जा रही है यह बात किसी से छिपी नहीं है। उपस्थित वक्ताओं ने कहा कि जब तक एकजुटता नहीं होगी तब तक अपना अधिकार प्राप्त करना संभव नहीं है। उपस्थित वक्ताओं ने कहा कि जिस ब्राह्मणों से राष्ट्र के निर्माण मेंं अपनी अहम भूमिका निभाई है। उसी प्रकार अपना अधिकार के प्रति भी जागरूक होने की आवश्यकता है।यह सब तभी संभव है जो तन मन धन के साथ इंटर का परिचय दें। आज ब्राह्मणों की स्थिति बद से बदतर हो गया है लेकिन किसी भी राजनीतिक पार्टी की चिंता नहीं जब चुनाव का दौरा प्रारंभ हो जाता है सभी पार्टी के नेता वोट लेकर चले जाते हैं परंतु ब्राह्मणों को ही हो रहे पर किसी राजनीतिक पार्टी के नेताओं ने अमल करने का प्रयास नहीं किया।ऐसे नेताओं को सबक सिखाने की जरूरत है। जिस पार्टी के नेताओं ब्राह्मणों को हक अधिकार देने की बात करेगी वैसे पार्टी को ब्राह्मणों द्वारा समर्थन दिया जाएगा।वक्ताओं ने कहा कि बिहार में आगामी विधानसभा चुनाव होने हैं ब्राह्मणों को चुनाव के पूर्व अपने हक और अधिकार के लिए की जरूरत है।