Home Big grid महंगे हुए एसी और वाशिंग मशीन, सरकार ने बढ़ाई दर्जनों आइटम्स पर...

महंगे हुए एसी और वाशिंग मशीन, सरकार ने बढ़ाई दर्जनों आइटम्स पर कस्टम ड्यूटी

731
0
SHARE

केंद्र सरकार ने एयर कंडीशन, रेफ्रिजरेटर सहित दर्जनों  लग्जरी उत्पादों पर आयात शुल्क में भारी वृद्धि की है।

रबिश कुमार

पटना।। सरकार ने गिरते रुपये को थामने के लिए एयर कंडीशन, रेफ्रिजरेटर और वाशिंग मशीन सहित दर्जनों  लग्जरी उत्पादों पर आयात शुल्क में भारी वृद्धि की है।नई दरें आज की मध्यरात्रि से प्रभावी हो जाएंगी हैं। सरकार के इस कदम के बाद अब कई उत्पाद महंगे हो जाएंगे। आयातित एयर कंडीशन, रेफ्रिजरेटर और वाशिंग मशीन अब महंगे हो जाएंगे। सरकार ने इन वस्तुओं के साथ-साथ 19 वस्तुओं पर आयात शुल्क बढ़ा दिया है, ताकि बढ़ते चालू खाता घाटा (सीएडी) पर लगाम लगाया जा सके। सरकार ने कहा कि ये सब सामान गैर जरूरी हैं, इसलिए इनके आयात को हतोत्साहित करने के लिए शुल्क बढ़ाया गया है।

केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने कहा कि केंद्र सरकार ने आयात किए जाने वाले कुछ सामानों का आयात घटाने के लिए आधारभूत सीमा शुल्क में बढ़ोतरी के जरिए शुल्क बढ़ाने का फैसला किया है। इन बदलावों का मकसद चालू खाता घाटा को कम करना है।
अब आयात किए जाने वाले एयर कंडीशन, रेफ्रिजरेटर तथा 10 किलो तक के वाशिंग मशीन पर आयात शुल्क 10 फीसदी से बढ़ा कर 20 फीसदी कर दिया गया है। यही नहीं, एयर कंडीशन तथा रेफ्रिजरेटर के कंप्रेशर पर भी आयात शुल्क 7.5 फीसदी से बढ़ा कर 10 फीसदी कर दिया गया है। इन वस्तुओं के अलावा स्पीकर, जूते, रेडियल कार टायर, आभूषण सामग्रियां, कई तरह के हीरे, बाथरूम, रसोई और घरों में काम आने वाले कुछ साजो-सामान, प्लास्टिक के कुछ खास सामान तथा ऑफिस स्टेशनरी, ट्रंक तथा हवाई जहाज के इंधनों पर भी शुल्क बढ़ा है। इस दायरे में शामिल अन्य वस्तुओं में वाशिंग मशीन, स्पीकर्स, रेडियल कार टायर, आभूषण, रसोई के सामान, कुछ प्लास्टिक के सामान और सूटकेस शामिल हैं। बता दें कि एसी, फ्रिज और वाशिंग मशीन (जिनका भार 10 किलोग्राम से कम है) पर आयात शुल्क को बढ़ाकर 20 प्रतिशत कर दिया गया है।

सरकार ने यह कदम गैर-जरूरी वस्तुओं के आयात में कटौती करने के इरादे से उठाया है ताकि आयात बोझ को हल्का कर चालू खाते के घाटे को काबू किया जा सके।

वित्त मंत्रालय का कहना है कि पिछले वित्त वर्ष में इन वस्तुओं के आयात से देश के आयात बिल में 86,000 करोड़ रुपये का बोझ पड़ा था। चालू वित्त वर्ष में चालू खाते का घाटा जीडीपी का 2.4 प्रतिशत हो गया है।